क्यों है प्रार्थना अनिवार्य? L आनन्दमूर्ति गुरुमाँ

5900 views | 27 Jan 2023

The grace of Ishwara and an equanimous mind are the prerequisites that prepare a fertile ground where the seeds of Dhyana, Bhakti, and Love for the Divine may sprout and flourish unabated. In the featured video, revered Gurudev Anandmurti Gurumaa explains the significance of 'Prarthna'- A heartfelt invocation where we love-fully implore the Supreme before starting any spiritual practice, praying for it to bloom and reach fruition.

show more

Related Videos

Can anyone walk on this spiritual path?

How to improve ourself? (Video is in Hindi)

Why there is not any growth in my spiritual journey?

अक्षर ब्रह्म, कर्म व अध्यात्म | आनन्दमूर्ति गुरुमाँ | Shrimad Bhagavad Gita

How can I come and be in your presence gurumaa?

आनन्दमूर्ति गुरुमाँ द्वारा गीता विद्या मंदिर बड़ा गांव का नवीनीकरण

क्या हैं शुद्ध अंतःकरण के लक्षण ? आनन्दमूर्ति गुरुमाँ

कठिन परिस्थिति में क्या करें? What to do in a difficult situation?

अधिभूत, अधिदैव, अधियज्ञ क्या हैं? आनन्दमूर्ति गुरुमाँ | Shrimad Bhagavad Gita

करें यह अभ्यास, होगी परम गति प्राप्त | आनन्दमूर्ति गुरुमाँ

Find it difficult to meditate at home!

मोक्ष प्राप्ति के योग्य कौन? आनन्दमूर्ति गुरुमाँ | Shrimad Bhagavad Gita

क्या है भेंट करने योग्य परमात्मा को ? l आनन्दमूर्ति गुरुमाँ

नवधा भक्ति क्या है? | What is Navdha Bhakti?

मेरा होना परमात्मा के होने का प्रमाण

कर्म किस प्रकार दग्ध होते हैं ?

श्रद्धांजलि समारोह l पूज्या गुरुमाँ जी की दिवंगत माता जी की स्नेहिल स्मृति में

गुरु ही आत्मज्ञान का द्वार

क्यों आती है साधना में रुकावट?

देर रात तक काम करना क्यों हानिकारक ?

मन को कैसे साधें?

कामना रहित कर्म कैसे करें? | आनन्दमूर्ति गुरुमाँ

How to catch the gap between two words?

वृक्ष लगाएँ पर्यावरण बचाएँ

जागो रे मुसाफ़िर | स्वामी ब्रह्मानंद जी

शिक्षक : समाज के लिए प्रेरणास्रोत

New Release : Jai Siya Ram | Sankirtan

Faith & Wisdom to Deal with Loss (with English sub)

The Law of Karma and Bhakti Marg

Experience of Bliss (with English subtitles)

Latest Videos

Related Videos