क्या आत्मज्ञान के बाद होगा सर्व विषयों का ज्ञान?

2734 views | 07 Dec 2022

Most seekers at the start of their journey to seek ultimate truth have certain myths and notions regarding the path and the fruit it will eventually reap. One such common notion is the belief that after attaining the highest wisdom they will gain knowledge on all matters of the world since it is said that nothing remains to be known after knowing the ultimate Being. if you too have such a lingering question, watch the video to get the answer. This video is an excerpt from the series on Shri Vedanta Saar by revered Gurudev Anandmurti Gurumaa.

show more

Related Videos

Can anyone walk on this spiritual path?

How to improve ourself? (Video is in Hindi)

अपनी हर इच्छा के प्रति रहें सजग l Apni har ichha ke prati rahein sajag

कैसे सरल बनाते हैं गुरु वेदांत ज्ञान को ?

क्या समाधि व सुषुप्ति एक समान हैं ? | Kya samadhi va sushupti ek saman hain?

सरलता से करें आत्मज्ञान!

Dekh Liya Duniya Ka Sara Nazara

कौन जानता है? | Kaun janta hai?

वेदांत मार्ग की बाधाएँ | Vedanta marg ki badhayein

क्या जप से संभव है आत्मज्ञान? | Kya Japa se sambhav hai Atmagyan?

ईश्वर और जीव का भेद | Ishwara aur Jeeva ka bhed

गुरु ही आत्मज्ञान का द्वार

वेदांती साधक की तड़प | Vedanti Sadhak Ki tadap

Intellect or true self: How to know the knower?

क्या आप हैं अज्ञान से दुखी ? | Kya aap hain agyan se dukhi? | Anandmurti Gurumaa

वेदांत महावाक्य l तत्त्वमसि

क्या मन को हो सकता है ब्रह्मज्ञान?

क्या शरीर बिना साधना संभव? | Kya sharir bina sadhna sambhav

वेदांत ज्ञान का अधिकारी कौन? | Vedanta Gyan ka Adhikaari kaun?

पूर्ण गुरु ही कराते हैं उस अविनाशी की प्राप्ति | संत सम्मेलन, उज्जैन

'मैं द्रष्टा हूँ' , जानिए कैसे | 'Main drashta hun', janiye kaise

मैं ब्रह्म हूँ, जानिए श्रवण-मनन-निदिध्यासन से | Main Brahman hun

ज्ञान यज्ञ करने के योग्य कैसे बनें?

काटो इस मन के जाल को l kaato iss mann ke jaal ko

तुम सत्य स्वरुप हो, पहचानो! | Tum satya swaroop ho, pehchano!

शिवोहम शिवोहम | Bhajan | Nirvana Shatakam

द्रष्टा और साक्षी में अंतर | Difference between Drashta & Sakshi

क्या हैं प्रत्यक्ष, परोक्ष और अपरोक्ष? | Pratyaksh, Paroksha and Aparoksha

मैं यह नहीं मैं वह नहीं कौन हूँ मैं?

आत्मज्ञान और ब्रह्मज्ञान में अंतर | Difference between Self Realisation & Brahman Realisation

Latest Videos

Related Videos